Amarendra Singh

जख़्म अगर गैरों ने दिया होता तो शायद ये दर्द कम होता

जख़्म अगर गैरों ने दिया होता तो शायद ये दर्द कम होता,
हम तो इस दिल पर चोट अपनों से खाये हुये हैं.
बेरुखी मे तो हमने जी ली है ज़िंदगी तन्हा,
अब तो बस हम अपनी मौत को सीने से लगायें हुये हैं.
ओर अब कैसे बतायें उनको कि तुमको तो वफ़ा नहीं आती,
ओर अब कैसे बतायें उनको कि तुमको तो वफ़ा नहीं आती,
जब हम खुद ही अपना दिल उस बेवफ़ा से लगायें हुयें हैं.

VIEW VIDEO

0
Amarendra Singh

Amarendra Singh

Leave a Reply

avatar

Amarendra Singh

Follow Me

Halka Halka Swag Halka Halka Swag Halka Halka Swag