Amarendra Singh

जख़्म आज भी हरे है, तू आकर देख तो ज़रा….

जख़्म आज भी हरे है, तू आकर देख तो ज़रा,
तेरे जाने के बाद इनसे रिस रिस के लहू निकलता है.

दवा मर्ज़ की हो कोई तो जाकर कही से ढूंढ लूँ,
ज़हर-ए-बेवफाई कहा इतनी आसानी से निकलता है.

हमने पुछा जो इलाज़ इस दर्द-ए-मोह्बत का,
हमने पुछा जो इलाज़ इस दर्द-ए-मोह्बत का,
वो बोले महखाने मे हर मर्ज़ का इलाज मिलता है.

3+
Amarendra Singh

Amarendra Singh

5
Leave a Reply

avatar
5 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
5 Comment authors
Saran mundraShivaliAnkitKhushiDr mansoor Akhtar Recent comment authors
newest oldest most voted
Dr mansoor Akhtar
Guest
Dr mansoor Akhtar

Gud work paaji

0
Khushi
Guest
Khushi

Awesome

0
Ankit
Guest
Ankit

Chaa gye guru ….Galbaad

0
Shivali
Guest
Shivali

Wah wah wah……beautiful poetry…..touching

0
Saran mundra
Guest
Saran mundra

Wah wah 👌💯

0