Amarendra Singh

हर रोज खोलता हूँ मैं किताबें कुछ पढ़ने के बहाने…

हर रोज खोलता हूँ मैं किताबें कुछ पढ़ने के बहाने,
हर रोज तेरा चेहरा मुझको किताबों में नज़र आ जाता है…

तूने जो दिया था फूल मुझको पहली मुलाक़ात पर,
आज भी उसमे से मुझको तेरा अक्श नज़र आ जाता है…

ये हवाये छूकर आई है शायद तुझको,
ये मौसम आज भी मेरे दिल मे इक आग लगा जाता है…

कभी चूमता हूँ तो कभी सीने से लगाता हूँ खत तेरे,
कभी देखता हूँ फ़लक पे तो तेरा साया नज़र आ जाता है…

और कुछ इस कदर बस गई है तू अब मेरी सांस में,
और कुछ इस कदर बस गई है तू अब मेरी सांस में,
कोई पूछता है जब नाम मेरा, तो नाम तेरा जुबां पर आ जाता है…

5+
Amarendra Singh

Amarendra Singh

5
Leave a Reply

avatar
5 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
5 Comment authors
xs16LoveleenVijayKhushiParveen Recent comment authors
newest oldest most voted
Parveen
Guest
Parveen

Superb

0
Khushi
Guest
Khushi

Bahut khoob

0
Vijay
Guest
Vijay

Dil cheer diya Ktaiiii…

0
Loveleen
Guest
Loveleen

Awesome

0
xs16
Guest
xs16

Sexy pictures each day
http://amandahot.com/?eden
amateur amateur porn lesbian psychotherapist porn gallery movies porn where can i find streaming porn porn spoons

0

Amarendra Singh

Follow Me

Halka Halka Swag Halka Halka Swag Halka Halka Swag